Letter to the future sentinels of Humanity

Paul Jourdy (1805-1856) - Homer Reciting His Verses, 1834 ® RMN-Grand Palais /Dist. Foto SCALA, Florence


मानवता के भावी प्रहरियों को पत्र

सोलमेयो, दिसंबर ३०,२०२२

वर्ष की समाप्ति पर आनेवाले इन दिनों में, जब हम सभी, अपने हृदय की निरभ्रता में, अपने हाल के और सुदूर के अतीत को देखकर उसे परखते हैं; इस निरभ्र समय में जब हम एक उज्ज्वल भविष्य के क्षितिज को देखते हैं, तो मेरे विचार आप युवा लोगों की ओर संबोधित होते हैं। मैं आप सबको गहराई से प्यार करता हूं, और मैं आप सभी को एक पिता और एक ऐसे व्यक्ति की आंख से देखता हूं जो हमेशा अपनी आत्मा से सोचता है जो भविष्य की ओर है। आप मेरे लिए धरती के नमक की तरह हैं, आनेवाले कल के वयस्क और प्रहरी, योग्य, जीनेवाले हर उस दूसरे इंसान की तरह जो खुशी की तलाश में है। आपकी आंखें उज्ज्वल और अत्यधिक ऊर्जा से भरी हैं: मैं हमेशा आपमें कुछ ऐसा देखता हूं जो आनंद, आशा, हो सकती है, और कभी-कभी निराशा भी। आपकी आंखों की चमक इतनी महत्वपूर्ण है कि, जब भी मैं खुद को व्यावसायिक परिस्थितियों में पाता हूं, मैं सहज रूप से असामान्य के लिए सामान्य रूप को छोड़ देता हूं, और आपसे उस सादगी के साथ बात करता हूं जो भाई को भाई से जोड़ती है। मैं आपकी उम्र में आपसे अधिक अलग नहीं था। आज मैं एक ऐसा व्यक्ति हूं जिसने अपने विशेष सपने का अनुसरण किया है, जिसने अंततः पुरानी इच्छा की पूर्ति की है, काम पर अपमानित हुये आंसूओं से भरे आंखों वाले मेरे पिता से पैदा हुआ वो सपना जो स्वंय और दूसरों के प्रति मानवतावादी सहयोग से जीने का है।

मुझे अक्सर लगता है, कि यह मेरे उद्देश्य को उत्तम बनाता है। इसलिए, कभी-कभी, जब हम किसी सार्वजनिक अवसर पर एक साथ होते हैं, तो मेरी आँखें आप पर टिकी होती हैं, पूरे समय तक उन्हें कभी नहीं छोड़तीं, मैं आपको अपने जीवन के बारे में बताना चाहता हूं, कि कैसे मैं आज अपने बचपन की गरीबी को एक उपहार के रूप में देखता हूं, न कि एक तिरस्कार के रूप में, कैसे उस गरीबी में मेरे लिये कोई कमी न थी, न तो भोजन की और खासकर, न खुशी की, और यह खुशी, जो कि सच्चा धन थी, मैंने इसे हर दिन प्रकृति की सुंदरता में पाया: सुबह की सफ़ेद लिली, धधकता नीला और लाल आसमान, धीरे-धीरे चांदी की ओस को सुखाता पहला सूरज, जंगल में सरगोशी करता बारिश का संगीत, ऋतुओं का शानदार जुलूस।

मैं अक्सर आपसे कहता हूं कि धन, जैसा दिखता है वैसा होता नहीं, सहन करने हेतु एक हल्का वजन, और केवल यदि आप जानते हों कि इसे उपहार में कैसे बदला जाये तो ही यह न्यायसंगत व्यक्ति के लिए स्वीकार्य है। आप जीवन में दुःख का सामना कर सकते हैं, दुर्भाग्यवश, एक रेंगते हुये दुश्मन के रूप में जो भविष्य में दुबक कर हर एक का इंतजार करता है। लेकिन साथ ही, दर्द, जैसा कि हमें कई प्राचीन विद्वान सिखाते हैं, एक उपहार है, और जैसा कि ऑस्कर वाइल्ड ने कहा, जिन्होंने रेडिंग जेल में दो साल से अधिक समय तक इसे एक साथी के रूप में रखा था, "यह सृजन हुई सभी चीज़ों में सबसे संवेदनशील है।"

आपकी युवावस्था से प्रेरित होकर, मैं आपसे संसार के प्रति एक निष्पक्ष दृष्टि की उपयोगिता के बारे में बात करता हूं। जब तक कि आप दूर तक देखने में सक्षम नहीं होंगे, आपको वास्तविक जीवन के कई कारण नहीं मिलेंगे। लेकिन दृष्टि हर सतत् सुखी जीवन का संबल है, और मानवता से प्राप्त हमारे सबसे कीमती उपहारों में से एक। लियोन बतिस्ता अल्बर्टी, जिन्होंने सपक्ष आंख को अपनी कला का कुलचिन्ह बनाया, इस बात को अच्छी तरह से जानते थे। आँखें दूर तक देखने के लिए बनी हैं, जितनी दूर तक संभव हो, क्षितिज को घूरते हुए, जैसे एक बच्चे के रूप में महान सिकंदर, जब वो समुद्र के किनारे लंबे समय तक अपनी आँखें अनंत की ओर घुमाता, और अपने कांपते हृदय को नीले रंग से परे आकाश को पानी से अलग करने वाली रेखा पर डालता, तो वह उन जमीनों की कल्पना करता जिन्हें वह जल्द ही जीतकर तत्कालीन ज्ञात दुनिया की महानतम संस्कृतियों से एकजुट कर देगा। दूर तक देखने पर, मेरे प्यारे नौजवानों, आप कल्पना कर सकेंगे और सुंदर सपनों को जीवन दे पायेंगे, और आप उस समय के बोध का अनुभव कर सकेंगे, जो महान लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कभी भी उतावला नहीं होता, जो वर्ष या चमक की तुलना में सीमित तो लगता है, लेकिन एक या अधिक शताब्दियों की तुलना में ऊंची उड़ान भरने लगता है। और सपनों से आदर्शों की ओर अग्रसर होते हुए आकाश की ओर देखें। प्रेम करें कला से, सौंदर्य से, क्योंकि उनमें सत्य है जो आत्मा को वास्तविक दुनिया से जोड़ता है। क्रोध से बचें, जो आत्मा के पथ को अस्त-व्यस्त कर देता है और स्वर्ग को उस पर अपना सम्मोहन डालने से रोकता है।

अब तक, आपके माता-पिता के रूप में अंशतः हमारी ही गलती के कारण, स्कूल में कुशल नहीं होने पर हमने काम करने के विचार को लगभग सजा के रूप में आप पर थोपा, कभी-कभी आपकी उम्मीदों को भी मंद होना पड़ा। अब समय है एक नई कल्पना आरंभ करने का: यह अपनी आत्मा के लिये अपनाना आसान नहीं है, लेकिन आप उनमें से हैं जो इसे कर सकते हैं। फिर, जब आप खसखस की जलती हुई पंखुड़ियों से या किसी पके फल की गंध से द्रवित होते हैं जिसके चारों ओर मधुमक्खियाँ भिनभिनायें, जब हवा अपनी सनक में उड़े, और आपको लगे कि पारा दूर की मिट्टी को पुकार रहा है, और इसका पास से सरकना सबसे मधुर संगीत हो, तब आप आशा की आनंदमय अवस्था में होंगे और उस जगमगाती दुनिया में होंगे जो आपकी राह देख रही है। किताबें पढ़ें: जैसा कि सम्राट हैड्रियन ने सोचा था, पुस्तकालयों की स्थापना करना सार्वजनिक अन्न भंडार को बनाने जैसा होता है। हर चीज़ का अध्ययन करना आवशयक नहीं हैः यदि पुस्तक एक सच्ची पुस्तक हो, ऐसी जिसमें मानवीय भाव के साथ रहने वालों ने सरल शब्दों में अपनी सच्चाई लिखी हो, या ऐसी जिसमें पुराने लोगों की प्रज्ञता हो, इसे अपने सुंदर यौवन की प्रत्येक सुबह क्रमरहित रूप से खोलें और फिर अपने संपूर्ण सुंदर जीवन के दौरान भी, और सामने आई किताबों में से बारह पंक्तियों से अधिक न पढ़ें। यह दिन को प्रारंभ करने का एक रमणीय और लाभदायक तरीका है, और यह मत भूलें कि शिक्षा के फलस्वरूप मिली बुद्धिमत्ता के साथ साथ सदा आत्मा की बुद्धिमत्ता भी होती है।

कभी भी अपनी गलतियों से ज़्यादा ना डरें, जो सभी की गलतियाँ होती हैं, क्योंकि असफलता से ही महानता का जन्म होता है; रोने में लज्जित न हों, क्योंकि, जैसा कि महान रेसिंग पायलट आर्टन सेना ने एक बार कहा था, आंसू आत्मा के ईंधन हैं। याद रखें कि एक उच्च व्यंजक एक से अधिक गलतियों को मुक्त करता है। कभी भी यह न समझें कि आप दूसरों से अच्छे हैं, क्योंकि हम सब में महान विचारों के लिए हमेशा जगह होती है। दूसरों के प्रति विचारशील रहें, अपने पारिवारिक स्नेह में, अपनी पढ़ाई में, अपने काम में, अपने प्रेम जीवन में, क्योंकि यदि आप स्वयं पर बहुत अधिक केंद्रित रहेंगे, तो सही रास्ता अनिश्चित बना रहेगा। खुशी उस चीज़ को पाने में नहीं है जिसे हम प्यार करते हैं, बल्कि उसे प्यार करने में है जो प्यार के योग्य है।

सृजन हमारी रक्षा करे!

Brunello Cucinelli

Close
Select your language